क्या आप जानते हैं दुनिया के सबसे खतरनाक हवाई अड्डों के बारे में World’s Most Dangerous Airports


                       

दुनिया के जिन सबसे खतरनाक हवाई अड्डों के बारे में हम बात करने वाले हैं,  उनके बारे में बहुत कम लोग ही जानकारी रखते हैं. दुनिया में कुछ जगह है ऐसी भी है जहां पर सुरक्षित हवाई अड्डे बनाना संभव नहीं है. यह हवाई अड्डे ऐसे हैं कि जहां पर जरा सी चूक एक बड़ा हादसा कर सकती है.  आइए जानते हैं इन हवाई अड्डों के बारे में.

Also Read : – मन में हो विश्वास तो सफलता जरूर मिलेगी 

कंसाई हवाईअड्डा (जापान)

यह हवाई अड्डा जापान के ओसाका द्वीप के निकट एक कृत्रिम टापू पर बनाया गया है.  इस हवाई अड्डे की समुंद्र तल से ऊंचाई 5 मीटर की है.  इस हवाई पट्टी पर उतरते हुए एक छोटी सी चूक विमान को सीधा समुंद्र में गिरा सकती है.

Also Read : – क्या आपने स्वामी विवेकानंद के इन महान प्रेरणादायक विचारों को अपने जीवन में उतारा है? 

आइस रनवे ( अंटार्कटिका)

अंटार्कटिका धरती का सबसे ठंडा स्थान है जो हमेशा बर्फ से ढका रहता है.  यहां पर पक्का रनवे नहीं है.  विमान उतारते वक्त बर्फ की लंबी पट्टी ही दिखाई देती है जिस पर सुरक्षित लैंडिंग एक चुनौती है.  यह हवाई पट्टी समुद्र तल से केवल 1 फुट की ऊंचाई पर स्थित है.  बेशक यह हवाई पट्टी बर्फ से बनी है लेकिन इस पर बड़े से बड़ा विमान  उतारा जा सकता है.


 माले  एयरपोर्ट   (मालदीव)

अगर हम जहाज पर बैठकर हवाई पट्टी को देखें, तो हमें तुरंत विश्वास हो जाता है कि मालदीव के समुद्र में डूब जाने का खतरा  सच है.  यह रनवे चारों ओर से समुद्र के नीले पानी से गिरा हुआ है. हुलहुले  एयरपोर्ट राजधानी से 2 किलोमीटर दूर तक  एक कृत्रिम द्वीप पर बनाया गया है.

Also Read : – सिर दर्द से बचाव के सरल उपाय 

बारा एयरपोर्ट (स्कॉटलैंड)

स्कॉटलैंड के बारा द्वीप पर समुंद्र की लहरे हवाई परिवहन को तय करती है.  ज्वार भाटे का पानी  आने से उतरी अटलांटिक में स्थित हवाई पट्टी डूब जाती है.  यहां पर जहाज का उतरना खतरे से खाली नहीं होता.  लेकिन इस द्वीप पर और कोई दूसरा हवाई अड्डा नहीं है.

प्रिंसेस जूलियाना एयरपोर्ट  (सेंट मार्टिन द्वीप)

प्रिंसेस जूलियाना एयरपोर्ट कैरेबियाई  टापू  सेंट मार्टिन पर स्थित है.  यह एयरपोर्ट अपनी सनसनीखेज तस्वीरों के लिए मशहूर है.   समुद्री बीच और सड़क से कुछ ही मीटर की ऊंचाई पर हवाई जहाज उड़ते रहते हैं.  विमान से निकलने वाली तेज हवा गाड़ियों के शीशों को नुकसान भी पहुंचा सकती है.  इसीलिए उड़ान के समय लोग एक किनारे खड़े रहते हैं.

Also Read : – विश्व का सर्वोत्तम टापू :  पलावन 

जिब्राल्टर इंटरनेशनल एयरपोर्ट ( स्पेन)

यह प्रायद्वीप स्पेन जाने वाले पर्यटकों में अत्यंत लोकप्रिय है.  लेकिन इस  प्रायद्वीप पर आना अत्यंत रोमांचकारी है.  जगह की कमी की वजह से हवाई अड्डे का रनवे अत्यंत व्यस्त सड़क से गुजरता है.  इसीलिए हर उड़ान और लैंडिंग के लिए यातायात को रोकना पड़ता है.  दुनिया में किसी एयरपोर्ट पर ऐसी क्रॉसिंग नहीं है.

लुकला (नेपाल)

जो  भी पर्वतारोही एवरेस्ट की चोटी पर चढ़ना चाहता है,  उसका इस हवाई अड्डे से बचना मुमकिन नहीं है.  अगर ऐसा किया तो 7 दिन का पैदल  सफर करना पड़ेगा.  यह एयरपोर्ट समुंद्र तल से 9334 फुट की ऊंचाई पर स्थित है.  इस हवाई अड्डे के रनवे पर उतरने के लिए पायलटों को पहाड़ की तरफ  बढ़ना पड़ता है,  क्योंकि इस की ढलान 12% है और रनवे के आखिरी छोर पर 600 मीटर की खाई है.

Also Read : – खुद को स्वस्थ रखने का ज़िन्दगी का यही मकसद होना चाहिए खुलकर हँसो, खुलकर जियो

पारो (भूटान)

यह हवाई हड्डा भूटान का एकमात्र अंतर्राष्ट्रीय हवाईअड्डा है.  यह हवाई अड्डा एक गहरी घाटी में 2236 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है.  इसकी वजह से यहां उड़ान भरना या लैंड करना केवल अच्छे मौसम में ही संभव हो सकता है.  1990 तक रनवे केवल 1400 मीटर लंबा था,  लेकिन अब उसे बढ़ाकर 1964 मीटर कर दिया गया है.

सबा एयरपोर्ट (नीदरलैंड्स)

यह हवाईअड्डा नीदरलैंड्स से 28 मील दूर दक्षिण की ओर सबा नामक टापू पर स्थित है.  इस अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे का रनवे विश्व का सबसे छोटा रंग में है जिसकी लंबाई केवल 400 मीटर है.  इसके एक और पहाड़ी है जबकि दोनों  छोर समुद्र में खत्म हो जाते हैं.

हमारा article पढ़ने के लिए धन्यवाद

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Subscribe For Latest Updates

Signup for our newsletter and get notified when we publish new articles for free!